धार्मिक

साल में सिर्फ एक बार खुलता है उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर…क्या है इसकी वजह ?

भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, लेकिन उज्जैन (Ujjain) का नागचंद्रेश्वर मंदिर (Nagchandreshwar Mandir) बाकि मंदिरों से अलग है। यह मंदिर श्री महाकालेश्वर मंदिर (Mahakaleshwar Jyotirlinga) की तीसरी मंजिल पर स्थित है। यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है, जो लगातार 24 घंटे तक खुले रहते हैं। मान्यतानुसार श्री नागराज तक्षक स्वयं...

तुलसीदास जयंती कब और क्यों मनाई जाती है ? तुलसीदास कौन थे ?

तुलसीदास (गोस्वामी तुलसीदास ) की स्मृति में प्रत्येक वर्ष श्रावण मास की सप्तमी को तुलसीदास जयंती मनाई जाती है। तुलसीदास एक हिंदू संत कवि, धर्म सुधारक और दार्शनिक थे। वह रामानंद की गुरु परंपरा में रामानंदी समुदाय के थे । तुलसीदास जन्म से एक सरयूपरिणा ब्राह्मण थे और उन्हें वाल्मीकि का अवतार माना जाता है, जिन्होंने संस्कृत में रामायण की रचना की थी।

ज्ञान बढ़े गुणवान की संगत – सत्संग भजन लिरिक्स

ज्ञान बढ़े गुणवान की संगत,ध्यान बढ़े तपस्वी संग कीने।मोह बढ़े परिवार की संगत,लोभ बढ़े धन में चित्त दीने।क्रोध बढ़े नर मूढ़ की संगत,काम बढ़े त्रिया संग कीने।बुद्धि विचार विवेक बढ़े,कवि दीन सुसज्जन संगत कीने।ज्ञान घटे कोई मूढ़ की संगत,ध्यान घटे बिन धीरज लाये।प्रीत घटे परदेस बसे अरु,भाव घटे नित ही घर जाये।सोच घटे कोई साधु की संगत,रोग घटे कछु औषधि खाये।गंग कहे सुण शाह...

पॉपुलर स्टोरी