Home Blog

हरियाणा रोडवेज का कंडक्टर, बस में सवारी के साथ करता है ऐसा काम…

0

तस्वीर में दिख रहे शख्स का नाम सुरेंद्र शर्मा है। वह हरियाणा रोडवेज में बस कंडक्टर का काम करता है और रोहतक जिले के गांव भाली आनंदपुर में रहता है।

हालांकि वह एक वफादार और प्रतिबद्ध कार्यकर्ता है, लेकिन उसके पास जो अद्वितीय गुण है वह उसे दूसरों से अलग करता है।

जैसे ही कोई यात्री बस में चढ़ता है, वह सबसे पहले एक गिलास पानी देता है। यह यात्री को आराम देता है और बदले में वह उनसे हार्दिक शुभकामनाएं प्राप्त करता है। 12 साल पहले सेवा में शामिल होने के बाद से वह धार्मिक रूप से इस रिवाज का पालन कर रहे हैं। जब भी उनकी बस नई यात्रा के लिए तैयार होती है तो वह हर बार 3 से 4 बड़े पानी के डिब्बे रखना नहीं भूलते।

EuroPCR Paris 2022: डॉ अनुरोध दादरवाल ने अपना रिसर्च पेपर प्रस्तुत कर बढ़ाया देश का गौरव

डॉ. अनुरोध दादरवाल ने पेरिस (फ्रांस) में आयोजित यूरोपियन सोसायटी ऑफ कार्डियोलोजी (ESC) के वार्षिक सम्मेलन EuroPCR 2022 में अपना रिसर्च पेपर प्रस्तुत कर देश का गौरव बढ़ाया है। डॉ अनुरोध दादरवाल इस सम्मेलन में भारत से एक मात्र युवा कार्डियोलोजिस्ट हैं जिनका चयन इस प्रतिष्ठित सम्मेलन की पीसीआर टेलेंट सेशन के लिए हुआ है। इसके अलावा उन्होंने इसी सम्मेलन में एक जटिल कोरोनरी केस भी प्रस्तुत किया।

पूर्व में वे ESC Asia 2021 में भी अपना शोध पत्र प्रस्तुत कर चुके हैं और युवा कार्डियोलॉजिस्ट अवार्ड में विश्व स्तर पर 4 फाइनलिस्ट में अपना स्थान बना चुके हैं

“रेडियल रूट द्वारा कोरोनरी इंटरवेंशन के जनक” डॉ. फर्डिनेंड कीमेनिज के साथ

डॉ. अनुरोध दादरवाल ने जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल से एमडी (MD) किया है एवं अपने रिसर्च के लिए गोल्ड मेडल हासिंल कर चुके हैं। उन्होंने डीएम (DM) कार्डियोलोजी देश के प्रतिष्ठित संस्थान एसजीपीजीआई (SGPGI Lucknow) से किया है एवं उत्कृष्ट शैक्षणिक उपलब्धियों के लिए सम्मानित हो चुके हैं।

अभी डॉ. अनुरोध जयपुर के मल्टी स्पेशियलिटी मंगलम प्लस मेडिसिटी हॉस्पिटल में इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी विभाग में कंसलटेंट है।

Korzo : इंडिया डांस फेस्टिवल का आगाज, 29 मई तक नीदरलैंड के हेग में होगा आयोजित

इंडिया डांस फेस्टिवल का उद्घाटन आज हेग में कोरज़ो थिएटर में मेयर जान वैन जेनन, भारत की राजदूत रीनत संधू, लियो स्प्रेक्सेल, जेम्मा जेलियर और गौरी शर्मा की उपस्थिति में हुआ। इंडिया डांस फेस्टिवल के दौरान, कोरज़ो समृद्ध भारतीय नृत्य और संस्कृति का जश्न मनाता है।

भरतनाट्यम से लेकर समकालीन भारतीय और आधुनिक नृत्य तक;
Korzo देश और विदेश से अग्रणी और शुरुआती प्रतिभाओं को प्रस्तुत करता है। प्रमुख अंतरराष्ट्रीय कलाकारों द्वारा प्रेरक प्रदर्शन ताज़ा, समकालीन प्रस्तुतियों के साथ शामिल हैं।

कार्यक्रम का आयोजन अदिति मंगलदास (आईएन) के सहयोग से आकाश ओडेड्रा कंपनी (यूके) द्वारा किया जा रहा है। साथ ही कार्यक्रम में कुचिपुड़ी डांसर भावना रेड्डी, शैलेश बहोरन और पोर्निमा गोवर्धन भी मौजूद थे।
कल्पना रघुरामन 2013 के समरपन को एकदम नए संस्करण में लेकर आई हैं और उत्सव का समापन विभिन्न भारतीय नृत्य शैलियों में उभरती प्रतिभाओं से भरे सप्ताहांत के साथ होता है।
इंडिया डांस फेस्टिवल 2022 के लिए टिकटों की बिक्री शुरू हो गई है। अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें: www.indiadansfestival.nl

अब एक साथ दो डिग्री कर सकेंगे छात्र, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (University Grants Commission) ने दी अनुमति

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (University Grants Commission) द्वारा देश के छात्रों को एक साथ दो डिग्री करने की अनुमति दी गई है। 2022-23 के शैक्षणिक सत्र से, छात्र इन दोहरी डिग्री कार्यक्रमों के लिए आवेदन करना शुरू कर सकते हैं। दोनों डिग्री या तो अलग-अलग विश्वविद्यालयों से या एक ही विश्वविद्यालय से प्राप्त की जा सकती हैं।

चेटीचंड की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई संदेश

0

चेटीचंड के पावन पर्व के अवसर पर समस्त देश एवं प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं।

समस्त देश एवं प्रदेश वासियों को भगवान झूलेलाल का जन्मोत्सव चेटीचंड की हार्दिक शुभकामनाएं।

चेटी चन्द (भगवान झूलेलाल जयंती) के अवसर पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं।

चैत्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई संदेश

0

शक्ति उपासना के महापर्व चैत्र नवरात्रि एवं हिंदू नववर्ष की आप सबको हार्दिक शुभकामनाएं।

चैत्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं, सभी के अच्छे स्वास्थ्य व सुख-समृद्धि की कामना है।

आप सभी को चैत्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं। ये नवरात्रि आप व आपके परिवार के लिए सुख, शांति और समृद्धि लेकर आये, ऐसी मेरी कामना है।

ग्रामीणों को मिली सौगात, सड़क कार्य का उद्घाटन

झुंझुनू- जिले के लाम्बी अहीर ग्राम पंचायत में पंचायत के गांव कानसिंहपुरा में कोटड़ी से लेकर सुभाष पंच के घर तक बनी इंटरलोक सड़क का उद्घाटन सरपंच नीरू यादव ने 13 फरवरी को
किया। अशोक यादव ने बताया कि इस सड़क की लागत करीब पांच लाख रूपए है। जिसमें सड़क के दोनों तरफ नाली का निर्माण भी किया है। इस दौरान सरपंच नीरू यादव ने कहा कि पंचायत के विकास में कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी। वहीं ग्रामीणों ने सरपंच नीरू यादव का साफा पहनाकर स्वागत किया। इस दौरान उपसरपंच कृष्णा देवी, रतिपाल, उदयसिंह, मोहनसिंह, आनन्द कुमार,
पृथ्वी सिंह, उम्मेद सिंह, गिरवर सिंह, सहित अनेक ग्रामीण मौजूद रहे।

कार्डियोलॉजिस्ट डॉ अनुरोध दादरवाल ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बनाई पहचान

जयपुर – राजस्थान के चुरु जिले के छोटे से गांव में 01 दिसंबर 1986 को जन्में डॉ अनुरोध दादरवाल (Dr Anurodh Dadarwal) एक साधारण परिवार से संबंध रखते हैं। शुरु से ही प्रतिभावान रहे अनुरोध दादरवाल ने देश में नहीं बल्कि विदेश में भी अपनी अलग पहचान बनाई है। दादरवाल वर्तमान में जयपुर के एक निजी अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

ESC Asia 2021 with APSC & AFC में चुने गए

युरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलोजी द्वारा 2 और 4 दिसंबर को आयोजित कांग्रेस में भारत की तरफ से युवा कार्डियोलोजिस्ट में एक मात्र डॉ अनुरोध दादरवाल का चयन किया गया था। इसी के साथ डॉ अनुरोध के ESC Asia में चार रिसर्च पब्लिकेशन का भी चयन किया गया है।

शिक्षा

डॉ अनुरोध से वर्ष 2004 में डॉ संपूर्णानंद मेडिकल कॉलेज (एसएनएमसी) जोधपुर से M.B.B.S, 2014 में सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर से और एमडी (मेडिसिन) और 2020 में संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ (SGPGI) से डी.एम. (कार्डियोलॉजी) की पढ़ाई की है।

करियर

वर्ष 2021 में डॉ अनुरोध दादरवाल ने फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल जयपुर में बतौर एसोसिएट कंसल्टेंट के रूप में अपनी सेवाएं दी और वर्तमान में मंगलम प्लस मेडिसिटी हॉस्पिटल जयपुर में कंसल्टेंट (इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी) के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इससे पहले डॉ अनुरोध दादरवाल सवाई मानसिंह अस्पताल जयपुर में एमडी जनरल मेडिसिन के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर औऱ संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान बतौर चिकित्सव अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

अनुभव

अनुरोध दादरवाल ने खुद को मानवता और गरीब लोगों की सेवाओं के लिए समर्पित कर दिया है। उन्हें कार्डिएक कैथीटेराइजेशन, एंजियोप्लास्टी, पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज, हार्ट फेल्योर, कैरोटिड आर्टरी स्टेंटिंग), सभी वॉल्व के परक्यूटेनियस बैलून वाल्वुलोप्लास्टी, पेसमेकर इम्प्लांटेशन आदि का व्यापक अनुभव है।

नर्मदा नदी पर आधारित फिल्म ‘रेवा’ की स्क्रीनिंग के साथ मनाई गई नर्मदा जयंती

जयपुर, 8 फरवरी | पत्रकारिता के छात्रों को भारतीय नदियों से जोड़ने के उद्देश्य और देश के विभिन्न हिस्सों में नदियोंं के किनारों पर स्थित यात्रा स्थलों से अवगत कराने के लिए जयपुर में सक्षम संचार फाउंडेशन ने मणिपाल संस्थान के सहयोग से नर्मदा जयंती के अवसर पर नर्मदा नदी पर बनी फिल्म रेवा का स्क्रीनिंग कार्यक्रम आइनॉक्स जीटी सेंट्रल मॉल में किया।

इस फिल्म के माध्यम से छात्रों को इस तथ्य से अवगत कराया गया कि नदियाँ भारतीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा कैसे हो सकती हैं और वे संस्कृति, व्यापार, पर्यटन और व्यवसाय को कैसे बढ़ावा दे सकती हैं।

इस अवसर पर अनुभवी फिल्म समीक्षक मनु त्रिपाठी ने कहा कि नदियों के महत्व जानने के लिए पत्रकारिता के छात्रों को फिल्म स्क्रीनिंग से जोड़ना मेरा पहला अनुभव है।

इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता सुजाता वर्मा ने कहा कि छात्रों को प्रकृति के आशीर्वाद से अवगत कराने के लिए यह सबसे अच्छा प्रयास है।

सामाजिक कार्यकर्ता मनोज कुमार ने कहा कि कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी रेवा फिल्म की कहानी में कई आश्चर्यजनक रहस्यों का खुलासा किया है। इसी तरह, नदियों में और उसके आसपास कई कहानियाँ छिपी हुई हैं, जिन्हें आने वाले समय में पत्रकारिता के माध्यम से उजागर करने की जरूरत है।

सक्षम संचार फाउंडेशन के कोर्डिनेटर रवींद्र नागर ने कहा कि हमारे पास विभिन्न स्थानों पर जाकर पत्रकारिता के छात्रों को प्रशिक्षित करने की योजना है ताकि वे अपनी पढ़ाई के साथ प्रेक्टिकल नॉलेज भी लें सकें।

वरिष्ठ पत्रकार अर्चना शर्मा ने संस्थान के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह के आयोजन बार-बार किए जाने चाहिए ताकि छात्र हमारी नदियों, प्राकृतिक संसाधनों के बारे में जान सकें और उनसे जुड़ी कहानियों को सामने ला सकें।

मणिपाल इंस्टीट्यूट के पत्रकारिता विभाग की छात्रा रिया ने कहा कि फिल्म की स्क्रीनिंग करना बेहतर अनुभव था फिल्म से कई रोचक जानकारि

मोती डूंगरी गणेश मंदिर से जुड़े रोचक तथ्य

मोती डूंगरी गणेश जी के मंदिर में सिंदूर का चोला चढ़ाकर लड्डू का भोग लगाया जाता है। यहां पर नए वाहनों की पूजा भी की जाती है। मान्यता है कि ऐसा करने से गाड़ियों को घटना नहीं होती है।